सत्रहवाँ संस्कार क्या है आखिर क्यों नहीं खाना चाहिए मृत्युभोज क्या आप को पता है

सभी धर्मों में अनेको कुरीतियाँ प्रचलित होती है और हिन्दू धर्म में भी ऐसी ही अनेकों कुरीतियाँ प्रचलित है जिनका कोई भी तर्क मौजूद नहीं है लेकिन फिर भी वे वर्तमान में भी अनवरत जारी है। मृत्युभोज भी एक ऐसी ही कुरीति है जिसे वर्तमान में बंद किये जाने की आवश्यकता है। मृत्युभोज खाने एवं
 
सत्रहवाँ संस्कार क्या है आखिर क्यों नहीं खाना चाहिए मृत्युभोज क्या आप को पता है

सभी धर्मों में अनेको कुरीतियाँ प्रचलित होती है और हिन्दू धर्म में भी ऐसी ही अनेकों कुरीतियाँ प्रचलित है जिनका कोई भी तर्क मौजूद नहीं है लेकिन फिर भी वे वर्तमान में भी अनवरत जारी है। मृत्युभोज भी एक ऐसी ही कुरीति है जिसे वर्तमान में बंद किये जाने की आवश्यकता है। मृत्युभोज खाने एवं खिलने की परम्परा हजारो सालो से कायम है लेकिन क्यों मृत्युभोज नहीं खाना चाहिए  

नेशनल हेल्थ मिशन (NHM), उत्तर प्रदेश में निकली 1400+ वैकेंसी, कोई आवेदन फीस नहीं

दसवीं पास वालों के लिए CISF कांस्टेबल और ट्रेडमैन में आई बम्पर भर्ती – देखें पूरी जानकारी

12th पास दिल्ली पुलिस नौकरियां 2019: 554 हेड कांस्टेबल पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन करें

DSSSB में निकली फायरमेन पदों पर 10वीं  पास लोगो के लिए दिल्ली में नौकरी – Apply Online for 706 Posts

सत्रहवाँ संस्कार क्या है आखिर क्यों नहीं खाना चाहिए मृत्युभोज क्या आप को पता है

हिन्दू धर्म में मुख्य 16 संस्कार बनाए गए है, जिसमें प्रथम संस्कार गर्भाधान एवं अन्तिम तथा 16वाँ संस्कार अन्त्येष्टि है। इस प्रकार जब सत्रहवाँ संस्कार बनाया ही नहीं गया सत्रहवाँ संस्कार क्या है आखिर क्यों नहीं खाना चाहिए मृत्युभोज क्या आप को पता है

तो सत्रहवाँ संस्कार ‘तेरहवीं का भोज’ कहाँ से आ टपका। किसी भी धर्म ग्रन्थ में मृत्युभोज का विधान नहीं है बल्कि महाभारत के अनुशासन पर्व में लिखा हैकि मृत्युभोज खाने वाले की ऊर्जा नष्ट हो जाती है।

सत्रहवाँ संस्कार क्या है आखिर क्यों नहीं खाना चाहिए मृत्युभोज क्या आप को पता है

महाभारत का युद्ध होने को था, अतः श्री कृष्ण ने दुर्योधन के घर जाकर युद्ध न करने के लिए संधि करने का आग्रह किया। दुर्योधन द्वारा आग्रह ठुकराए जाने पर श्री कृष्ण को कष्ट हुआ और वह चल पड़े,सत्रहवाँ संस्कार क्या है आखिर क्यों नहीं खाना चाहिए मृत्युभोज क्या आप को पता है

तो दुर्योधन द्वारा श्री कृष्ण से भोजन करने के आग्रह पर कृष्ण ने कहा कि ’’सम्प्रीति भोज्यानि आपदा भोज्यानि वा पुनैः’’ अर्थात जब खिलाने वाले का मन प्रसन्न हो, खाने वाले का मन प्रसन्न हो, तभी भोजन करना चाहिए।सत्रहवाँ संस्कार क्या है आखिर क्यों नहीं खाना चाहिए मृत्युभोज क्या आप को पता है

अतः आप आज से संकल्प लें कि आप किसी के मृत्यु भोज को ग्रहण नहीं करेंगे और मृत्युभोज प्रथा को रोकने का हर संभव प्रयास करेंगे। हमारे इस प्रयास से यह कुप्रथा धीरे धीरे एक दिन अवश्य ही पूर्णत: बंद हो जायेगी।

सत्रहवाँ संस्कार क्या है आखिर क्यों नहीं खाना चाहिए मृत्युभोज क्या आप को पता है

From Around the web