क्यों मिट्टी के घड़े का पानी RO के पानी से भी ज्यादा स्वच्छ होता है 

इसका तापमान सामान्य से थोड़ा ही कम होता है जो ठंडक तो देता ही है, चयापचय या पाचन की क्रिया को बेहतर बनाने में मदद करता है आज हम आपको मटके का पानी पीने के यह बेशकीमती फायदे बताने जा रहे है सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :- सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर
 
क्यों मिट्टी के घड़े का पानी RO के पानी से भी ज्यादा स्वच्छ होता है 

इसका तापमान सामान्य से थोड़ा ही कम होता है जो ठंडक तो देता ही है, चयापचय या पाचन की क्रिया को बेहतर बनाने में मदद करता है आज हम आपको मटके का पानी पीने के यह बेशकीमती फायदे बताने जा रहे है

क्यों मिट्टी के घड़े का पानी RO के पानी से भी ज्यादा स्वच्छ होता है 

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

एसिडिटी का मुख्य कारण है पाचन ठीक से नहीं होना लेकिन मटके के पानी में उपस्थित प्राकृतिक मिनिरल्स एसिडिटी होने से बचाव करते हैं।

अक्‍सर ठंडा पानी पीने से गला खराब हो जाता है लेकिन वहीं अगर आप घडे़ का पानी पीते हैं।

आपका गला हमेशा ठीक रहेगा ठंडा पानी पीने से गले की कोशिकाओं का तापमान अचानक गिर जाता है।

जिससे परेशानियां पैदा हो जाती हैं।

क्यों मिट्टी के घड़े का पानी RO के पानी से भी ज्यादा स्वच्छ होता है 

जैसा कि सब जानते हैं मटके का पानी कुदरती तरीके से ठंडा होता है।

अतः इसका सेवन करने से दिल की बीमारियां नहीं होती।

अक्सर ऐसा होता है कि हम गर्मी में बाहर से आकर फ्रिज का ठंडा पानीं पी लेते हैं।

इस वजह से सर्दी-ज़ुकाम जैसी बीमारियों से घिर जाते हैं तो अगर सर्दी या कफ़ से बचना है।

तो मटके के पानीं का इस्तेमाल करें।

क्यों मिट्टी के घड़े का पानी RO के पानी से भी ज्यादा स्वच्छ होता है 

इसमें मृदा के गुण भी होते हैं जो पानीं की अशुद्ध‍ियों को दूर करते हैं।

लाभकारी मिनरल्स प्रदान करते हैं शरीर को विषैले तत्वों से मुक्त कर आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहती बनाने में यह पानी फायदेमंद होता है।

इस पानी का पीएच संतुलन सही होता है मिट्टी के क्षारीय तत्व।

पानीं के तत्व मिलकर उचित पीएच बेलेंस बनाते हैं जो शरीर को किसी भी तरह की हानि से बचाते हैं और संतुलन बिगड़ने नहीं देते।

From Around the web