महीने में 80 लाख रुपये कमाने के बाद भी यहां के लोग हैं सबसे ग़रीब

रोचक : यदि ऐसी बात भारत के संदर्भ में की जाये तो यह बात एकदम गलत साबित होगी। अपने देश में जिसकी सैलरी 1 लाख रुपया महीना है उसे सफल माना जाता है। ऐसे परिवार या व्यक्ति को समाज में सफल परिवार या व्यक्ति का दर्जा दिया जाता है। लेकिन संसार के ही कुछ ऐसे
 
महीने में 80 लाख रुपये कमाने के बाद भी यहां के लोग हैं सबसे ग़रीब

रोचक : यदि ऐसी बात भारत के संदर्भ में की जाये तो यह बात एकदम गलत साबित होगी। अपने देश में जिसकी सैलरी 1 लाख रुपया महीना है उसे सफल माना जाता है। ऐसे परिवार या व्यक्ति को समाज में सफल परिवार या व्यक्ति का दर्जा दिया जाता है।

लेकिन संसार के ही कुछ ऐसे शहर भी हैं जहां 80 लाख कमाने के बाद भी लोग ग़रीब मानें जाते है। USA के सेनफ्रांसिस्को, सैनमाटियो और उसके आस-पास रहने वाला चार सदस्यों का कोई परिवार यदि महीने में 80 लाख रुपये भी कमाता है तो उसे ग़रीब समझा जाता है।

वहीं अगर कोई फैमिली 50 लाख रुपया महीना कमाती है, तो उसे अत्यंत ग़रीब माना जाता है। अमेरिका के अन्य शहरों के मुक़ाबले इन शहरों में ग़रीबी का यह पैमाना कहीं ज्यादा है। सैनफ्रांसिस्को के शहरी क्षेत्रों में 2008 से 2016 के मध्य 25 से 64 साल आयु वाले वाले नौकरशाह लोगों की कमाई 26% तक बढ़ी है, जोकि दूसरे शहरी इलाकों के मुकाबले यह काफी ज्यादा है।

From Around the web