शर्मनाक : यहां पुरुष की मौत के बाद काट दिया जाता हैं महिलाओं का ये अंग

शर्मनाक : दुनिया में कई अजीबोगरीब परम्पराएं हैं जिनके बारें में हम सोच भी नहीं सकते। आज हम आपको एक ऐसी परंपरा के बारें में बताएंगे जो अविश्वसनीय हैं। दरअसल एक जनजाति की परंपरा हैं कि अगर इनके किसी पुरुष की मौत हो जाती हैं तो उस घर की महिलाओं की अंगुलियां काट दी जाती
 
शर्मनाक : यहां पुरुष की मौत के बाद काट दिया जाता हैं महिलाओं का ये अंग

शर्मनाक : दुनिया में कई अजीबोगरीब परम्पराएं हैं जिनके बारें में हम सोच भी नहीं सकते। आज हम आपको एक ऐसी परंपरा के बारें में बताएंगे जो अविश्वसनीय हैं। दरअसल एक जनजाति की परंपरा हैं कि अगर इनके किसी पुरुष की मौत हो जाती हैं तो उस घर की महिलाओं की अंगुलियां काट दी जाती हैं। या तो महिलाएं खुद अपनी अंगुलियां काट लेती हैं नहीं घर का कोई सदस्य जबर्दस्ती महिलाओं की अंगुलियां काट देता हैं। यह जनजाति इंडोनेशिया के पश्चिमी न्यू गिनी में पाई जाती हैं। इस जनजाति के लोग पुराने रीतिरिवाजों को आज भी मानते है.

इस जनजाति के लोगों का मानना हैं कि महिलाओं की अंगुली काटने से से होने वाले दर्द से मरने वाले व्यक्ति की आत्मा को शांति मिलती हैं। किसी व्यक्ति के मर जाने पर उस घर की महिलाओं की अंगुली ऐसे ही आसानी से नहीं काटी जाती हैं बल्कि महिलाओं की अंगुली काटने से पहले आधे घंटे तक उनको बांधा जाता हैं। फिर अंगुलियों को काट कर जला दिया जाता हैं। बता दें इंडोनेशिया की सरकार ने इस प्रथा को बैन कर दिया हैं लेकिन अभी भी यहां के दूरदराज के इलाकों में ये दर्दनाक प्रथा चल रही हैं।

शर्मनाक : यहां पुरुष की मौत के बाद काट दिया जाता हैं महिलाओं का ये अंग
Image Credit : The Scottish Sun

इसके अलावा इस जनजाति के लोग किसी घर के मुखिया की मृत्यु होने के बाद उसके घर की सभी महिला सदस्यों की अंगुलियां कुल्हाड़ी से काट दिया जाता हैं और यहीं नहीं उनके चेहरे पर कालिख और मिटटी का तेल पोतकर उन्हें सरेआम पूरे काबिले में शर्मिंदा भी किया जाता हैं। बता दें आज भी अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, भारत और इंडोनेशिया में कई ऐसी जनजातियां रहती हैं जो अपनी हजारों साल पुरानी जीवन पद्धति को जारी रखे हुए हैं। इंडोनेशिया के पपुआगिनी द्वीप में रहने वाली दानी जनजाति में आज भी एक ऐसा रिवाज प्रचलित हैं। इस जानजाति की महिलाओं को किसी रिश्तेदार की मौत पर अपनी अंगुलियों के सिरे को काटना पड़ता हैं।

From Around the web