बहन के लिए दिवाली पर स्कूटी खरीदने शोरूम पहुंचा भाई, जब पेमेंट की आई बारी तो दी ऐसी चीज

राजस्थान के उदयपुर शहर में भाई और बहन की अनोखी मिसाल देखने को मिली हैं. दरअसल दीवाली के दिन एक 13 साल के बच्चे ने अपने बड़े बहन के लिए पॉकेट मनी बचा-बचा कर 62 हजार रूपय की स्कूटी खरीदी. सबसे खास बात यह हैं की यह बच्चा अपनी बहन के साथ स्कूटी खरीदने पहुंचा
 
बहन के लिए दिवाली पर स्कूटी खरीदने शोरूम पहुंचा भाई, जब पेमेंट की आई बारी तो दी ऐसी चीज

राजस्थान के उदयपुर शहर में भाई और बहन की अनोखी मिसाल देखने को मिली हैं. दरअसल दीवाली के दिन एक 13 साल के बच्चे ने अपने बड़े बहन के लिए पॉकेट मनी बचा-बचा कर 62 हजार रूपय की स्कूटी खरीदी. सबसे खास बात यह हैं की यह बच्चा अपनी बहन के साथ स्कूटी खरीदने पहुंचा तो इस बच्चे की मासूमियत देखकर सब हैरान रह गए.

बहन के लिए दिवाली पर स्कूटी खरीदने शोरूम पहुंचा भाई, जब पेमेंट की आई बारी तो दी ऐसी चीज

दरअसल दिवाली के दिन हौंडा कंपनी का शोरूम बंद ही होने वाला था की 13 साल का यश अपनी बहन रूपल के साथ शोरूम में आया उन दोनों के हाथ में एक बैग था. दोनों ने पहले स्कूटी पसंद की और जब पेंमेंट की बारी आयीं तो उन्होंने बैग शोरूम के स्टाफ को थमा दिया. बस बैग खोलते ही शोरूम कर्मचारियों ने अपना माथा पकड़ लिया.बहन के लिए दिवाली पर स्कूटी खरीदने शोरूम पहुंचा भाई, जब पेमेंट की आई बारी तो दी ऐसी चीज

क्योंकि बैग में नोट की जगह 62 हजार की चिल्लर भरी पड़ी थी ये देख शोरूम कर्मचारी परेशान हो गए. एक बार तो उन्होंने स्कूटी देने से मना ही कर दिया लेकिन यश ने जब पूरी कहानी सुनाई तो शोरूम मैनजर को राजी ही होना पड़ा. आठवी में पढ़ने वाला यश और उसकी बहन रूपल पिछले 2 सालों से पैसे जमा कर रहे थे. यश के पिता आटा चक्की चलाते हैं तो दोनों को पॉकेट मनी सिक्कों में ही मिलती थी.

From Around the web