कमाल हो गया, पहले सरकार ने प्लास्टिक पर लगाया बैंड, लेकिन बचे हुए प्लास्टिक का जो किया..

रोचक : ये तो सभी को पता हैं कि प्लास्टिक की वजह से पर्यावरण को कितनी हानी पहुंचती हैं। प्लास्टिक एक ऐसा पदार्थ जो आसानी से नष्ट नहीं होता और अगर होता भी हैं तो पर्यावरण को नुकसान पहुंचाता हैं। ऐसे में कई लोग प्लास्टिक का इस्तेमाल अपने छोटे-मोटे कामों में अक्सर करते थे। लेकिन
 
कमाल हो गया, पहले सरकार ने प्लास्टिक पर लगाया बैंड, लेकिन बचे हुए प्लास्टिक का जो किया..

रोचक : ये तो सभी को पता हैं कि प्लास्टिक की वजह से पर्यावरण को कितनी हानी पहुंचती हैं। प्लास्टिक एक ऐसा पदार्थ जो आसानी से नष्ट नहीं होता और अगर होता भी हैं तो पर्यावरण को नुकसान पहुंचाता हैं। ऐसे में कई लोग प्लास्टिक का इस्तेमाल अपने छोटे-मोटे कामों में अक्सर करते थे। लेकिन बीते दिनों में ही सरकार ने प्लास्टिक बैग्स पर बैंड लगा दिया। ताकि हमारी आस-पास स्वच्छता का माहौल बना रहें और पर्यावरण भी दूषित ना हो।

ऐसे करने में कई लोगों को बहुत ही दिक्कत आ रही हैं। लेकिन क्या आपने कभी सोचा हैं की इस प्लास्टिक से अगर कोई अच्छा काम हो जाए जिसके वजह से पर्यावरण भी दूषित ना हो और आस-पास स्वच्छता का माहौल भी बना रहें तो कितना अच्छा होता ना। तो आपको बता दें की फरीदाबाद शहर में कुछ ऐसा ही हुआ हैं जिसने सभी लोगों को हैरान कर दिया हैं। आइए बताते हैं आपको पूरी खबर…

पर्यावरण को हानि ना पहुंचे इसलिए इंडियन आयल कॉरपोरेशन ने सेंट्रल रोड़ रिर्सच इंस्टीटयूट के साथ मिलकर एक बेहतरीन कमद उठाया हैं। दरअसल, इंडियन आयल कॉरपोरेशन ने एक ऐसी सड़क तैयार की हैं जो सिंगल यूज़ प्लास्टिक वेस्ट से बना हैं। आपको बता दें की आईओसी ने तारकोल के साथ प्लास्टिक के मिक्चर से 1 किलोमीटर लंबी सड़क बनाई हैं जिसमें बिटुमिन से बनने वाली सड़क में सिंगल यूज प्लास्टिक का प्रयोग किया गया हैं।

ये पूरा आयडिया इंडियन आयल कॉरपोरेशन के डॉयरेक्टर एस.एस.बी.रामा.राव का हैं। इनका कहनां हैं की देश में हर दिन 26 हजार सिंगल यूज प्लास्टिक वेस्ट के रूप में निकलता हैं। इस वेस्ट का प्रयोग सड़क बनाने में किया जा सकता हैं। जिसका ट्रायल फरीदाबाद में किया गया।

From Around the web