ईंट का रंग लाल ही क्यों होता है, क्लिक कर जान लीजिये ये दिलचस्प बात

जब भी हम ईंट का नाम लेते है तो हमारे मन में एक ही रंग आता है और वो है लाल, तो ऐसा क्यों होता है आखिर क्यों ईंट का रंग लाल ही होता है बाकी रंगों में क्यों नहीं आती जैसे कि हरा पीला नीला. सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं
 
ईंट का रंग लाल ही क्यों होता है, क्लिक कर जान लीजिये ये दिलचस्प बात

जब भी हम ईंट का नाम लेते है तो हमारे मन में एक ही रंग आता है और वो है लाल, तो ऐसा क्यों होता है आखिर क्यों ईंट का रंग लाल ही होता है बाकी रंगों में क्यों नहीं आती जैसे कि हरा पीला नीला.

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

इस सरकारी बैंक ने निकाली है बम्पर पदों पर नौकरियों ही नौकरियां  

1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

आपको आज ही इस लेख के माध्यम से पता चलेगा की इंट का रंग लाल क्यों होता है, ईट जो है नरम मिट्टी से बनती है और उस मिट्टी को लोहे के फ्रेम में डालकर कच्ची इंट बनाई जाती है. जो कि कच्चे मकानों को बनाने के लिए कभी-कभी इस्तेमाल की जाती है.

ईंट का रंग लाल ही क्यों होता है, क्लिक कर जान लीजिये ये दिलचस्प बात

ईंट में तत्वों की मात्रा जो है वह बहुत ही अलग अलग तरह से होती है, इसमे रेत 50-70% होता है अलुमिनिया 20 -30 % होता है लाइम 2-5 % होता है मैग्नीशियम 1% और लोहा 7%

ईंट का रंग लाल ही क्यों होता है, क्लिक कर जान लीजिये ये दिलचस्प बात
कच्ची इंट को मजबूत करने के लिए उन्हें ऊंचे तापमान में भटियो में पकाया जाता है। भट्टी का तापमान 875 से 900 डिग्री सेल्सियस तक जो है रखा जाता है। ऊंचे तापमान पर लोहा और अन्य धातुओं के ऑक्साइड अलुमिनिया सिलिका के साथ मिलकर रसायनिक बंधन बनाते हैं। इस तरह से कच्ची ईंट की रसायनिक रचना जो है वह बदल जाती है जिससे आयरन ऑक्साइड बनता है और वह लाल रंग की हो जाती है।

इसी को जो है हम पक्की इंट कहते हैं और जो पक्की हुई इट होती है वह कच्ची इंट से 10 %छोटी हो जाती है । इंट बेहद ही ठोस और मजबूत होती है जिसका इस्तेमाल सदियो से इमारत बनाने के लिए किया जाता है।

From Around the web