राशि के अनुसार कौनसा रत्न होगा आपके लिए शुभ, जानिए आज

ग्रहों के बुरे प्रभाव के कारण मनुष्य को जीवन में अनेक कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। वैसे तो ग्रहों की शांति के लिए कई उपाय बताए गए हैं लेकिन इस समस्या का समत्कारिक हल रत्न द्वारा भी किया जा सकता है। आज हम आपको बताते हैं कि किस राशि के जातक के लिए कौनसा
 
राशि के अनुसार कौनसा रत्न होगा आपके लिए शुभ, जानिए आज

ग्रहों के बुरे प्रभाव के कारण मनुष्‍य को जीवन में अनेक कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। वैसे तो ग्रहों की शांति के लिए कई उपाय बताए गए हैं लेकिन इस समस्‍या का समत्‍कारिक हल रत्‍न द्वारा भी किया जा सकता है। आज हम आपको बताते हैं कि किस राशि के जातक के लिए कौनसा रत्‍न शुभ रहता है।

मेष राशि रत्न

मेष रा‍शि के जातकों को मूंगा अथवा गारनेट रत्‍न धारण करने से फायदा होता है। इस रत्‍न के प्रभाव में जातक का दिमाग शांत रहता है। यह जातक हीरा धारण न करें।

वृषभ राशि रत्न

वृषभ राशि के जातकों को हीरा धारण करना चाहिए। हीरे के प्रभाव से वृषभ राशि के जातक बुरी संगत से दूर रहेंगें। इस राशि के व्यक्ति को माणिक्य नहीं धारण करना चाहिए। इन्‍हें मूंगा रत्‍न न पहनने की सलाह दी जाती है।

मिथुन राशि रत्न

मिथुन राशि के जातक आकर्षक और कला के प्रेमी होते हैं। इनका नेगेटिव प्‍वाइंट होता है कि इन्‍हें जीवन में सफलता ज़रा देर से मिलती है। यदि मिथुन राशि के जातक पन्ना धारण करें तो उसे अपने जीवन में सफलता प्राप्‍ति में सहयोग मिलता है। यदि ये जातक नीलम रत्‍न न पहनें तो यह इनके लिए लाभप्रद होगा।

कर्क राशि रत्न

कर्क राशि के जातक बुद्धिमान होते हैं लेकिन यह हठी स्‍वभाव के भी होते हैं। अपने जिद्दी स्‍वभाव के कारण कभी कभी इन्‍हें नुकसान भी उठाना पड़ जाता है। कर्क राशि के जातकों को मोती पहनने से लाभ होता है। यह रत्‍न मन के विचारों को नियंत्रित कर उसे शांति प्रदान करता है।

सिंह राशि रत्न

सिंह राशि के जातक काफी उदार होते हैं लेकिन इन्‍हें अपने जीवन में काफी संघर्ष करना पड़ता है। छोटी छोटी चीजें भी इन्‍हें काफी मेहनत के बाद नसीब होती हैं। ऐसे में अगर सिंह राशि के जातक माणिक्‍य रेड ओपल या गारनेट धारण करें तो उन्‍हें अपने कार्यों में सफलता हासिल होती है। जबकि हीरा पहनने से इन्‍हें नुकसान हो सकता है।

कन्‍या राशि रत्न

जीवन में आई कठिनाइयों से निपटना कन्‍या राशि के जातक अच्‍छी तरह से जानते हैं। इन जातकों में कमी होती है कि यह काफी भावुक प्रवृत्ति के होते हैं। दूसरों के प्रति जल्‍दी आकर्षित हो जाते हैं। इनका चंचल स्‍वभाव ही इनकी सबसे बड़ी मुसीबत बन जाता है। इसलिए कन्‍या राशि के जातकों को पन्‍ना रत्‍न धारण करना चाहिए।

तुला राशि रत्न

तुला राशि के जातकों में विभिन्‍न खूबियां होती हैं। इन्‍हें कला से प्रेम होता है एवं पैसा कमाने के लिए ये सदैव उत्‍सुक रहते हैं। लेकिन ये जातक हमेशा दूसरों पर अपना वर्चस्‍व साबित करना चाहते हैं। ये काफी स्‍वार्थी भी होते हैं। अपनी नकारात्‍मकता को नियंत्रित करने के लिए तुला राशि के जातक ओपल नीला डायमंड और टोपाज धारण कर सकते हैं।

वृश्चिक राशि रत्न

धैर्य और शांति का दूसरा नाम होते हैं वृश्चिक राशि के जातक। इन जातकों को जीवन में सफलता पाने के लिए जीतोड़ मेहनत करनी पड़ती है। खूब पसीना बहाने के बाद ही कामयाबी इनके हाथ आती है। यदि वृश्चिक राशि के जातक मूंगा धारण करें तो इनके द्वारा किए गए प्रयासों से जल्‍दी सफलता पाई जा सकती है। मूंगा के प्रभाव में ये जातक अपने लक्ष्‍य को प्राप्‍त कर पाएंगें। इन्‍हें हीरा धारण करने से परहेज करना चाहिए।

धनु राशि रत्न

धनु राशि के जातक दिखने में मजबूत और शक्तिशाली होते हैं। कार्य को तेजी से करते हैं लेकिन कार्य पूरा किए बिना दूसरों के ऊपर कार्य सौंप कर उस काम से हट जाते हैं। इस राशि के जातकों को पुखराज धारण करना शुभ होगा यह उनके भाग्य की वृद्धि में सहायक होगा। पन्‍ना इनके लिए नुकसानदायक हो सकता है।

मकर राशि रत्न

मकर राशि के जातक सदा दूसरों की सहायता के लिए तत्‍पर रहते हैं। इन जातकों के जीवन में परिश्रम और चिंता अधिक होती है। परिवार से भी इन्‍हें सहयोग नहीं मिल पाता। इनका भाग्य देर से जागता है इसलिए मेहनत का फल भी देर से मिलता है। मकर राशि का स्‍वामी शनि ग्रह है इस‍लिए मकर राशि वाले जातकों को नीलम रत्‍न धारण करना चाहिए। ये जातक पुखराज न पहनें तो बेहतर होगा।

कुंभ राशि रत्न

ये जातक ज्ञान का भंडार होते हैं। लेकिन इनका आत्‍मविश्‍वास काफी कमजोर होता है। ये शारीरिक रूप से भी कमजोर होते हैं। इस राशि का शुभ रत्‍न नीलम है। पुखराज इनके लिए नुकसानदायक हो सकता है।

मीन राशि रत्न

मीन राशि के जातक जीवन के प्रति काफी उत्‍साहित रहते हैं। इनका स्‍वास्‍थ्‍य ज्‍यादा अच्‍छा नहीं रहता। इन्‍हें पुखराज पहनने की सलाह दी जाती है। पुखराज इस राशि के लिए शुभ रत्‍न माना जाता है जबकि पन्‍ना इनके जीवन में अशुभ फल का कारक बनता है।

From Around the web